CPI के नेता अतुल कुमार अंजान का लखनऊ में निधन हो गया। वो लंबे समय से कैंसर से जूझ रहे थे। उनका इलाज गोमती नगर के मेयो अस्पताल में चल रहा था। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के केन्द्रीय सचिव मंडल के सदस्य और अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव रहे अतुल कुमार अंजान ने सुबह करीब 3 बजकर 20 मिनट पर अंतिम सांस ली। लगभग 6 महीने से गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती थे। सुबह 9 बजे आवास पर होंगे अंतिम दर्शन परिजनों के मुताबिक उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए सुबह 9 बजे हजरतगंज के हलवासिया स्थित उनके आवास पर लाया जाएगा। इसके बाद 10 बजे से 1: 30 बजे तक कैसरबाग के भाकपा कार्यालय में अंतिम दर्शन हो सकेंगे। और वही से दोपहर 2 बजे उनकी अंतिम यात्रा भैसाकुंड शमशान घाट के लिए रवाना होगी। लखनऊ विश्वविद्यालय से रहा गहरा नाता लखनऊ यूनिवर्सिटी (LU) के छात्र नेता के रूप में उनके राजनीतिक कैरियर की शुरूआत हुई जो आगे चलकर ने CPI के बड़े नेता की उनकी पहचान बनी। 1977 के राजनीति की शुरुआत करने वाले अतुल अंजान को वामपंथी राजनीति का बड़ा चेहरा माना जाता था। 20 साल की उम्र में नेशनल कॉलेज स्टूडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष के रूप में चुने गए। छात्रों की चिंताओं को उठाने के लिए लोकप्रिय अंजान ने लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र संघ का अध्यक्ष पद चुनाव भी जीता। उन्हें करीब आधा दर्जन भाषाओं की जानकारी थी। खबर अपडेट की जा रही हैं

By

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe for notification