यूपी में गर्मी का ताप लगातार बढ़ता जा रहा है। IMD के मुताबिक प्रयागराज देश का 5वां सबसे गर्म शहर रहा। यहां अधिकतम तापमान 44.2°C रिकॉर्ड हुआ। प्रदेश में दिन के मुकाबले अब रातें भी गर्म होने लगी हैं। सीजन में पहली बार अयोध्या का तापमान भी 43°C दर्ज किया गया, जो औसत से 4 डिग्री अधिक रहा। जबकि 31 शहरों में हीटवेव का अलर्ट जारी हुआ है। थार मरुस्थल की हवाएं ला रहीं गर्मी
वेट बल्ब तापमान की वजह से गर्मी तकलीफदेह हो रही है। अब अधिकतर जिलों का तापमान 41 से 42°C के बीच दर्ज किया जा रहा है। थार मरुस्थल की तरफ से आने वाली हवाएं और गर्म हुई हैं। इनके संपर्क में आने के बाद हिमालयी उत्तर पश्चिमी हवाओं का मिजाज भी गर्म हो जा रहा है। सीएसए यूनिवर्सिटी के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि गर्मी और तापमान अभी और बढ़ेंगे। हीट एग्जॉर्शन की बढ़ी आशंका
यह गर्मी इंसानी सेहत के लिए अधिक दिक्कत वाली है। इससे हीट एग्जॉर्शन हो सकता है। इसमें शरीर खुद को ठंडा नहीं रख पाता है। सोमवार को अधिकतम पारा सामान्य औसत से 2.3 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा, लेकिन हिमालयी उत्तर-पश्चिमी हवाओं ने पश्चिमी यूपी के शहरों को रात में थोड़ी राहत दिलाई। बढ़ेंगे लू के थपेड़े, हवाओं की मिक्सिंग खत्म
न्यूनतम पारा सामान्य औसत से 1.7 डिग्री कम हो गया है। डॉ. एसएन सुनील पांडेय का कहना है कि हवाओं की मिक्सिंग अब समाप्त हो गई है। उत्तर-पश्चिमी नम हवाएं भी गर्म रहेंगी। इससे दिन और रात दोनों गर्म होंगे। अभी कोई पश्चिमी विक्षोभ भी नहीं आ रहा है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आसमान में हल्के बादल छाए रहेंगे। हवाएं सामान्य गति से अधिक तेज चलेंगी। इससे लू के थपेड़े भी बढ़ेंगे। रातें भी होने लगी तेजी से गर्म
IMD के मुताबिक प्रदेश के वाराणसी, आगरा, रायबरेली और बस्ती भी सबसे गर्म शहरों में शामिल रहे। यहां अधिकतम तापमान 44 से 43°C के बीच दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान भी लगातार बढ़ता जा रहा है। औसत तापमान 26°C दर्ज किया जा रहा है। सोमवार रात कानपुर में दिन जैसी ही गर्मी का अहसास हुआ। बढ़ती गर्मी के चलते स्कूलों की बदली टाइमिंग
बढ़ती गर्मी को देखते हुए शासन के निर्देश पर स्कूलों का समय बदल गया है। कक्षा एक से लेकर आठ तक के स्कूलों का समय सुबह 7 से एक बजे तक करने का आदेश जारी किया था। सभी स्कूल नए समय के अनुसार ही खुलेंगे। गर्मी को देखते हुए अभिभावकों ने स्कूलों के समय में एक बार फिर से परिवर्तन की मांग की है। साथ ही कुछ स्कूलों ने आठवीं तक ही समय बदला है, नवीं से 12वीं का समय पुराना ही है। ऐसे में अभिभावकों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

By

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe for notification