दैनिक भास्कर का चुनावी रथ 2 मई को बुंदेलखंड की महत्वपूर्ण लोकसभा सीट बांदा पहुंचा। यहां हम अलग-अलग हिस्सों की जनता के बीच गए और उनके मुद्दों को समझा। जहां एक तरफ पीने के पानी के लिए संघर्ष था तो दूसरी तरफ व्यापारियों ने बढ़ती महंगाई पर चिंता जताई। तमाम ऐसे भी लोग मिले जिन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार ही सबसे बेहतर है। बांदा-चित्रकूट की इस सीट पर बीजेपी की तरफ से मौजूदा सांसद आरके पटेल फिर से प्रत्याशी हैं। सपा ने शिवशंकर पटेल और बसपा ने मयंक द्विवेदी को अपना प्रत्याशी बनाया है। इन उम्मीदवारों को लेकर जनता की क्या राय है, किन मुद्दों पर वोट करेगी, आइए उन्हीं लोगों से जानते हैं… एक नल के सहारे 1500 लोग
दैनिक भास्कर का चुनावी रथ बांदा जिला मुख्यालय से करीब 4 किलोमीटर दूर भूरागढ़ पहुंचा। यहां पहाड़िया बस्ती में कुछ लोग मिले जो अपनी समस्याओं को दैनिक भास्कर से साझा किया। सहोदरा कहती हैं, इस गांव की आबादी डेढ़ हजार के करीब है सिर्फ एक नल है, यहीं से पूरा गांव पानी भरता है। अगर यहां पानी नहीं मिलता तो सबको नदी का पानी पीना पड़ता है। सहोदरा आगे कहती हैं, इस नल तक पानी लेने के लिए ट्रेन की पटरी भी पार करके आना होता है, कई बार बहुत खतरा रहता है। राजकुमार नल के ही पास एक दुकान चलाते हैं, वह कहते हैं कि कई बार ज्ञापन दिया लेकिन कोई काम नहीं हुआ। इस गांव में जाने के लिए कोई सीधा रास्ता भी नहीं है, 3 किलोमीटर दूर से एक रास्ता है जहां से हम बाइक के जरिए आ सकते हैं। कुलदीप सिंह इसी गांव के हैं, उनसे हमने पूछा कि हर घर नल जल योजना का लाभ क्या यहां नहीं मिलता? कुलदीप कहते हैं कि यहां अभी तक इस योजना के तहत काम नहीं हुआ है। आगे कहा जाता है कि इसका ध्यान दिया जाएगा। पानी और सड़क नहीं होने से यहां सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है। मोदी जी का विकसित भारत बनाने का संकल्प
भास्कर का चुनावी रथ बांदा मार्केट में पहुंचा तो तमाम बीजेपी कार्यकर्ता प्रचार करते हुए मिले। पुष्पेंद्र कहते हैं कि पूरा देश आज विकसित भारत के संकल्प के साथ पीएम मोदी के साथ खड़ा है। मोदीजी भारत को विश्व में नंबर वन बनाना चाहते हैं। यही कारण है कि दो बार पूर्ण बहुमत के बाद अब तीसरी बार भी जनता पूर्ण बहुमत देने जा रही है। 400 सीटों का आंकड़ा पार होगा। महंगाई को लेकर वह कहते हैं यह एक सतत प्रक्रिया है, सबको सबकुछ मिला है। महंगाई के सवाल पर ममता मिश्रा कहती हैं, विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वह महंगाई को मुद्दा बना रहे हैं। आप इंफ्रस्ट्रक्चर की तरफ देखिए, लगातार देश में बदलाव हो रहा है। थोड़ी बहुत महंगाई बढ़ भी गई तो क्या दिक्कत है, राष्ट्रवाद और भारत को नंबर वन बनाने के संकल्प के बीच छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। परीक्षाओं के लीक होने के सवाल पर रजत सेठ कहते हैं, कुछ कमिया रह जाती हैं लेकिन यह कमी मोदी-योगी की तरफ से नहीं है। मशीनरी की कमी है, योगी सरकार ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की। साथ ही वादा किया कि अगले 6 महीने के अंदर फिर से परीक्षा करवाई जाएगी। बीजेपी सांसद 5 साल बालू ढोने में मस्त रहे
भास्कर का चुनावी रथ बांदा के दूसरे हिस्से में पहुंचा तो वहां हमें कई और लोग मिले। मोहन साहू कहते हैं कि यहां के सांसद अपने पूरे कार्यकाल में बालू ढोने में मस्त रहे, कोई सड़क नहीं बनवाई, किसी के सुख-दुख में नहीं गए। लोग आज नाराज हैं, बांदा की जनता उन्हें इसबार 2 लाख वोटों से हराएगी। मंजीत गुप्ता कहते हैं, ये चुनाव परिवर्तन वाला है। बीजेपी ने खूब सारे फर्जी वादे किए, सारे दावे हवा-हवाई रहे। धर्म और झूठ की राजनीति की लेकिन अब जनता जाग गई है। बेरोजगार युवा पेपर लीक से परेशान हो गया है। मोदी जी सबकुछ प्राइवेट हाथों में दे रहे हैं, जनता निराश है इसलिए अबकी बार बदलाव की तरफ देख रही है। आत्माराम यादव कहते हैं कि सपा बीजेपी को नहीं रोक रही, बल्कि जनता ही अब रोक रही है और कह रही- मोदी गो बैक। बीजेपी अब पार्टी नहीं रह गई, सिर्फ मोदी रह गए। नफरत की पॉलिटिक्स हो रही, नौजवान तबाह हो रहा, महंगाई कमर तोड़ रही इसलिए तो जनता मोदी गो बैक कह रही। दिवाकर भी आत्माराम की बातों को आगे बढ़ाते हुए कहते हैं, महंगाई इतनी बढ़ गई कि जनता सब्जी तक नहीं छौंक पा रही। पेपर लीक बड़ी समस्या है। मंडी के लिए एक स्थायी जगह नहीं मिल रही
भास्कर का चुनावी रथ कालू कुंआ होते हुए सब्जी मंडी पहुंचा। वहां हमें संगम साहू मिले, वह कहते हैं, मार्केट लगातार कटती जा रही है। प्रशासन कभी यहां भेज देता है तो कभी आधी मंडी किसी दूसरे स्थान पर। रही बात चुनाव में महंगाई की तो यह एक मुद्दा है लेकिन बदलाव नहीं होगा। जो हैं वहीं रहेंगे। श्याम कहते हैं, विकास के मुद्दे पर वोट देंगे। इस वक्त की सरकार में जैसा विकास चल रहा है वैसा विकास हमने अपने जीवन में कभी नहीं देखा। मोदी सरकार बढ़िया काम कर रही है। इस सरकार में मकान, बिजली, गैस और भत्ते पर खूब काम हुआ है। बाकी मंडी की समस्या तो है, मंडी समिति को कुछ करना चाहिए। यहां सड़क पर मंडी है इसलिए बहुत खतरा रहता है। अक्सर एक्सीडेंट हो जाता है। महंगाई मुद्दा है लेकिन आना तो बीजेपी को ही है
शेख मुन्ना से हमने पूछा कि यहां किसकी तरफ माहौल है, वह कहते हैं कि जो चल रहा है आना उन्हें ही है, महंगाई मुद्दा है लेकिन कुछ बदलाव नहीं होगा। दोनों तरफ पटेल प्रत्याशी हैं लेकिन ज्यादातर बीजेपी की तरफ जाएंगे। जीशान कहते हैं, जब तक सपा का पलड़ा भारी था तब तक आरके पटेल उधर थे, बीजेपी का माहौल लगा तो बीजेपी में चले गए, सब पैसे का खेल है। ये सब चलता रहता है। मो. इसराइल कहते हैं, देश गड्ढे में जा रहा है। महंगाई-बेरोजगारी से लोग परेशान हैं। पहले 10 आदमी खरीदारी करने आता था आज 2 आ रहे हैं। अब वोट पड़ता नहीं बल्कि सब बिक रहा है। रही बात हिन्दू मुस्लिम की तो ये सब नेता करवाते हैं, बाकी हम तो आज भी एक दूसरे के शादी-विवाह में जाते हैं। बेटा खाने को नहीं पूछता और पेंशन बनी नहीं
मंडी में मंतुल देवी प्याज छटाई का काम करती हैं। कहती हैं कि वृद्धा पेंशन के लिए बहुत दौड़े लेकिन बन नहीं पाई। अब अधिकारी कहते हैं कि चुनाव के बाद आना। परिवार के बारे में पूछने पर कहती हैं, अब तो बेटा ही दुश्मन है। बहु के आते ही सब दुश्मन बन जाते हैं। अब बहु बनाकर नहीं देगी इसलिए अपना खाओ और कमाओ। यहां से पहले मंडी में रहते थे, मजदूरी भी करते थे। मंडी में ही मजदूरी करने वाले पप्पू कहते हैं, हमें कोई लाभ नहीं मिला। शौचालय पास हुआ तो उसका पैसा हमारे गांव बहेरी का प्रधान खा गया। हमने एसडीएम तक से शिकायत की है। पिंटू कहते हैं, महंगाई ने सबसे ज्यादा परेशान किया है। 10 रुपए किलो बिकने वाली आलू अब 30 रुपए में हो गई है। महंगाई इसी तरह से बढ़ती रही तो जनता सोचेगी ही। योगी जी ने अच्छा काम किया है लेकिन आरके पटेल ने कोई काम नहीं किया है। आलोक कहते हैं कि हमें तो सबकुछ अच्छा लग रहा है। मौजूदा सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है। पूरे देश में बीजेपी की ही लहर है, काम अच्छा नहीं होता तो जनता क्यों चुनती। इसबार भी यही जीतेंगे। सकील कहते हैं कि इस वक्त दिमाग में कुछ नहीं है कि किसे वोट देंगे, बाद में जहां लगता है उसी को दे देते हैं। यहां बदलाव की उम्मीद दिख रही है। मोदी सरकार से लोग नाराज है। भास्कर पर पब्लिक ओपिनियन और भी हैं.. हमीरपुर में जिला हॉस्पिटल की खराब व्यवस्था मुद्दा दैनिक भास्कर का चुनावी रथ बुधवार को बुंदेलखंड के हमीरपुर जिले में पहुंचा। यहां हमने उन स्थानीय व राष्ट्रीय मुद्दों पर लोगों की राय जानी जो इस चुनाव में निर्णायक साबित होंगे। सरकारी योजनाओं के प्रभाव और विपक्ष के उन मुद्दो पर भी बात की जिसके जरिए वह बदलाव की उम्मीद कर रहे हैं। भास्कर की मुहिम मेरी बात सुनो में भी तमाम लोगों ने अपने मुद्दों को लिखकर दिया। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें…

By

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe for notification