बुधवार सुबह 5 बजकर 35 मिनट स्कूल डीपीएस नोएडा की ई-मेल आईडी पर एक मेल आता है। सुबह आठ बजे एडमिन ने मेल देखा तो उसके होड़ उड़ गए। जानकारी पुलिस को दी गई। 8 बजकर 20 मिनट पर पुलिस डीपीएस पहुंची। पुलिस के साथ बम स्क्वायड , डॉग स्क्वायड और अग्निशमन दल और एटीएस की टीम थी। पूरे स्कूल को सर्विलांस में लिया। उस समय बच्चे ग्राउंड में थे। बच्चों को बस के जरिए घर भेजा गया। ऐसा इसलिए क्योंकि डीपीएस स्कूल ने सबसे पहले मेल का रिस्पॉन्स पुलिस को दिया। हालांकि जिस तरह का मेल में शब्द प्रयोग किए वे इस्लामिक स्टेट करता है। पुलिस यहां सर्च कर रही थी इस दौरान जानकारी आई कि नोएडा के डीपीएस सेक्टर-122, एस्टर पब्लिक स्कूल, ग्रेनो वेस्ट डीपीएस स्कूल में भी ऐसे ही मेल है। कंट्रोल रूम एक्टिव करते हुए पुलिस ने 40 टीम बनाई। तीनों जोन के डीसीपी को सर्च ऑपरेशन कर बच्चों को सही सलामत घर तक पहुंचाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इस बीच स्कूलों की ओर से अभिभावकों को एक इमरजेंसी मैसेज फॉरवर्ड किया गया। ये मैसेज छुट्‌टी का था जिसमें कारण स्पष्ट नहीं था। मीडिया में रिपोर्ट आते ही। परिवार के लोगों के होश उड़ गए। इस्लामिक स्टेट ऐसे शब्दों का करता है यूज
मेल में लिखा, हमारे दिल में जिहाद की आग है। हमारे हाथों में जो लोहा है वह हमारे दिलों को गले लगाता है इंशा अल्लाह, हम उसे हवा के माध्यम से भेजेंगे और तुम्हारे शरीरों को तहस नहस कर देंगे। हम तुम्हें आग की लपटों में झोंक देंगे। तुम्हारा दम घुट जाएगा, अल्लाह ने इसके लिए हमारे भीतर आग पैदा की है। काफिरों इंशा अल्लाह, उसे अपने आसपास देखो और हमेशा के लिए जल जाओ। अल्लाह की इजाजत से धुआं आसमान में उतरेगा, यह सब खत्म हो जाएगा। क्या आपने सच में सोचा था कि आपके द्वारा किए गए सभी बुरे कामों का कोई जवाब नहीं होगा? नोएडा के स्कूलों में मेल आईडी sawariim@mail.ru का प्रयोग किया गया। इस मेल में सवारीम (तलवार का टकराव) शब्द का प्रयोग किया गया। ये शब्द 2014 में इस्लामिक स्टेट द्वारा निर्मित एक नशीद है और इसका उपयोग इस्लाम वादी प्रचार वीडियो और एक थीम के रूप में किया जाता है। जिसके बोल रक्तपात और युद्ध के बारे में चर्चा करते हैं। थाना सेक्टर-20 में दर्ज किया गया मुकदमा, एक्टिव आईटी टीम
निठारी पुलिस के चौकी इंचार्ज ने इस मामले में थाना सेक्टर-20 में एक मुकदमा दर्ज कराया। ये मुकदमा आईटी एक्ट और अफवाह फैलाने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराया गया। पुलिस ने मेल और आईपी एड्रेस को वेरिफाइड करने के लिए 5 साइबर टीम बनाई। बताया गया कि ये आईपी एड्रेस हाइड है। इस मामले में दिल्ली पुलिस के साथ कई एजेंसियां भी जांच कर रही है। 20 हजार परिवारों की एक समय थम गई सांस
धमकी भरे मेल की जानकारी मिलते ही पेरेंट्स स्कूल पहुंचे। यहां पुलिस का तामझाम देखकर उनको समझ नहीं आया कि ये क्या हो रहा है। बच्चों को वापस घर भेजा जा रहा था। इस बीच ग्रेटरनोएडा के एक स्कूल का वीडियो वायरल हुआ जिसमें पेरेंट्स और स्कूल मैनेजमेंट के बीच नोकझोंक होती दिखी। पैनिक न बढ़े इसलिए पुलिस कमिश्नर ने अपने अकाउंट से पोस्ट किया। अफवाहों पर ध्यान न दें सब ठीक है। सारे स्कूल सुरक्षित हैं। गौतमबुद्ध नगर पेरेंट्स वेलफेयर सोसाइटी के संस्थापक मनोज कटारिया ने बताया कि नोएडा में सवा दौ सो स्कूल है। जिसमें 11 स्कूल ऐसे थे जिनको खाली कराया गया। इन स्कूलों में करीब 20 हजार बच्चे पढ़ते है। इन स्कूलों में कर दी गई छुट्‌टी क्या रहा स्कूल के स्टूडेंट्स का रिएक्शन
कियाया ने कहा, प्रार्थना के बाद मै अपनी दोस्त से बात कर रही थी तभी हमें कक्षाओं से बैग समेत बाहर निकलने के लिए कहा गया। स्कूल स्टॉफ ने सभी को बाहर निकाला। बाहर निकलते ही देखा कि सभी कक्षाओं से छात्र बाहर निकल रहे हैं। करीब दस मिनट बाद पता चला कि बम से स्कूल को उड़ाने की धमकी मिली है। समृद्धि चौधरी ने कहा, मैं पानी पीने के लिए बाहर आई थी तभी अचानक से शोर होने लगा और लोग तेजी से कक्षाओं से भागने लगे। हालांकि स्कूल स्टॉफ बच्चों के साथ रहा और कहता रहा कि कोई परेशानी की बात नहीं है। कुछ वजहों से आज स्कूल प्रबंधन ने छुट्टी करने का फैसला लिया है।

By

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe for notification